[माफिया डॉन] मुख़्तार अंसारी का जीवन परिचय | उम्र, परिवार, राजनितिक करियर, पत्नी और डॉन बनाने की कहानी

Mukhtar Ansari Biography in Hindi – Height, Age, children, Wife, Family, Cast, Net Worth, wiki & more

मुख़्तार अंसारी का जीवन परिचय – मुख़्तार अंसारी भारतीय राजनीती और उत्तर प्रदेश राजनीती का एक ऐसा नाम जो लगातार तीन बार जेल में रहते हुए चुनाव को जीत लेता है!

लेकिन अगर मुख़्तार अंसारी की पारिवारिक प्रष्ठभूमि की बात की जाये तो मुख़्तार के दादा मुख़्तार अहमद अंसारी जिन्होंने भारत की आजादी की लड़ाई में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लियाl मुख़्तार अहमद अंसारी के बारे कहा जाता है की वह गाँधी जी के करीबी लोगों में से एक थे, और आजादी से पहले वह इंडियन नेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष भी रहे!

अंसारी परिवार का पूर्वांचल गाजीपुर जिले और उसके आसपास के जिलों जैसे मऊ और अन्य भी जिलो में भी वर्चस्व हमेशा से रहा है!

अंसारी के नाना मोहम्मद उस्मान 1947 के लड़ाई में वीर गति को प्राप्त हुए थे, तथा उन्हें उनके मरणोपरांत महावीर चक्र दिया गया था!

Mukhtar Ansari Biography  | मुख़्तार अंसारी की जीवनी

बाहुबली नेता से माफिया डॉन बने मुख़्तार अंसारी का जन्म 30 जून 1963 दिन रविवार को यूशुफपुर गाजीपुर में हुआ था! इनके दादा का नाम मुख़्तार अहमद अंसारी था जो आजादी के पहले से ही भारतीय राजनीती और आजादी की लड़ाई में सक्रीय भूमिका निभा रहे थे! 1926-27 में इनके दादा जी इंडियन नेशनल कांग्रेस के राष्ट्रिय अध्यक्ष भी रहे, और इनके नाम पर दिल्ली की एक रोड का नाम भी रखा गया है!

मुख़्तार की पिता का नाम सुभानुल्लाह अंसारी और माता का नाम बेगम राबिया था और इनकी माता के देहांत दिसंबर 2018 में हुआ था!

अंसारी के पिता भी स्थानीय राजनीती में अपनी सक्रीय भूमिका निभाते थे! कहा जाये तो अंसारी परिवार हमेशा में राजनीती में सक्रीय रहा हैl

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

मुख़्तार का प्रारम्भिक जीवन काफी रोचक और आराम भरा रहा, मुख़्तार अंसारी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने गाजीपुर से ही प्राप्त की! Graduation  में BA की Degree इन्होने 1984 में Gazipur Collrge Rambadh से प्राप्त कीl

 परिवार (Family)

अंसारी परिवार का गौरवशाली इतिहास रहा है,जो राजनीतिक विरासत मुख़्तार के दादा जी छोड़कर गए थे उसको इनके पिता सुब्हानउल्लाह अंसारी ने आगे बढ़ने का कम किया है!

मुख़्तार की शादी 15 अक्तूबर 1989 रविवार को हुई थी! मुख़्तार अंसारी की पत्नी का नाम अफ़सा अंसारी है, मुख़्तार के परिवार में इनकी पत्नी के अलावा दो बेटे जिनका नाम अब्बास अंसारी और उम्र अंसारी है!

दोनों अपने पिता की राजीतिक विरासत को आगे बाधा रहे है तथा दोनों राजनीती में अपने परिवार के साथ दे रहे है!

इनके अलावा मुख़्तार के दो भाई सिबाकतुल्लाह अंसारी और अफज़ल अंसारी भी राजनीती में सक्रीय है!

राजनीतिक करियर (Political Career)

Mukhtar Ansari के Political career के बारे में बात करे तो इनके परिवार का राजनीती से गहरा नाता रहा है [फिर चाहे वह मुख़्तार के बाबा हो पिता हो चाचा हामिद अंसारी हो जो भारत उप राष्ट्रपति रह चुके है सभी राजनीती से जुड़े रहे है!

मुख़्तार के बड़े भाई अफजाल अंसारी गाजीपुर के मोहम्मदाबाद विधान सभा सीट से कम्युनिस्ट पार्टी की तरफ से चार बार और एक बार समाजवादी पार्टी की तरफ से विधायक रह चुके है! लगातार पांच बार 1985 से 1996 तक लगातार विधायक रह चुके है! और 2004 में गाजीपुर संसदीय सीट से सांसद का चुनाव भी जीत चुके है!

70 से 90 के दसक तक मुख़्तार अपने साथियों के साथ मिलकर हत्या, अपहरण, फिरौती, सरकारी ठेकों को हथियाना जैसे संगीन अपराधो की बदौलत बनारस, मऊ, गाजीपुर, जालौनऔर कानपूर तक अपना परचम लहरा रहा था!

1995 में मुख्त्तार ने राजनीति की दुनिया में कदम रखा और पहली बार बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर 1996 में मऊ से विधायक बनकर विधान सभा पंहुचा!

2002 में फिर मऊ से निर्दलीय के रूप में विधायक बनेl

इसके बाद 2007, 2012 और 2017 में मुख़्तार निर्दलीय, कौमी एकता दल और BSP के टिकट पर लड़कर विधायक बने रहे!

2009 लोकसभा इलेक्शन में वाराणसी संसदीय सीट पर BJP के उम्मीदवार मुरली मनोहर जोशी के खिलाफ जेल से पर्चा दाखिल किया तब मुख़्तार को हार का सामना करना पड़ा था!

शुरू शुरू में बसपा के टिकट पर चुनाव जीतने के बाद 2010 में बसपा सुप्रीमों मायावती ने अंसारी भाइयो को आपराधिक गतिविधियों में शामिल हना बताकर उन्हें पार्टी से निकाल दिया था!

जिसके बाद उन्होंने कौमी एकता दल नमक पार्टी का गठन किया और एक बार विधायक भी रहे! 2017में एक बार फिर कौमी एकता दल का विलय बसपा में हो गया और अंसारी बसपा के टिकट पर ही चुनाव जीते!

मुख़्तार को जितवाने का काम गाजीपुर के 8% मुसलमान ही नहीं है हिन्दुओं में भी काफी पैठ है अंसारी परिवार की!

मुख़्तार अंसारी की अपराध की कहानी

मुख़्तार अंसारी के अपराध की गाथा कॉलेज के दिनों से ही शुरू होती है जिस कॉलेज में मुख़्तार पढ़ते थे, वहां राजपूत और भूमिहारों का वर्चस्व था!

कॉलेज के दौरान इनकी दोस्ती साधू सिंह नाम के लड़के के साथ हो गयी और मुख़्तार दोस्ती निभाने के चक्कर में कई दुश्मनों को बनाते गए जिसके कारण इनका नाम बदनाम हुआ!

70 के दशक में सरकारी ठेकों को लेने के चक्कर में साहिब सिंह गैग से अक्सर मुख़्तार गैंग की भिड़ंत होती रहती थी और साहिब सिंह गैंग का एक मुख्य सदस्य ब्रजेश सिंह जिसने 1990 अपना अलग गुट बना लिया था!

सबसे पहले 1988 में क्राईम की दुनिया में मुख़्तार का नाम आया जब मंदी परिषद के लोकल ठेकेदार सच्चिदानन्द राय की हत्या में और त्रिभुवन सिंह के भाई कांस्टेबल राजेंद्र सिंह की बनारस में हुई हत्या के तार मुख़्तार से जुड़े!

टकराव की स्थिति 1990 बनी जब ब्रजेश सिंह ने रेलवे, कोयला, शराब, खनन आदि के ठेकों में अपनी पहुच बनाने की कोशिश की! इस वजह से कई बार आमने सामने टकराव भी हुआ और दोनों में दुश्मनी बढती गयीl

1991 में चंदौली की पुलिस ने मुख़्तार अंसारी को गिरफ्तार किया लेकिन मुख़्तार ने दो पुलिस कर्मियों की गोली हत्या करके फरार हो गया!

विधायक रहते एसपी उदय शंकर पर जानलेवा हमला करवाने में एक बार फिर सन 1997 मुख़्तार का नाम आया!

1997 में पूर्वांचल के कोयला व्यवसायी रूंगटा के अपहरण ने मुख़्तार को अपराध की दुनिया का बादशाह बना दिया

सन 2002 में ब्रजेश सिंह ने मुख़्तार पर हमला करवाया जिसमे मुख़्तार गैंग के तीन आदमी मारे गए, परन्तु इसमें ब्रजेश सिंह भी घायल हो गया! जिसके कारण कई महीनो तक उसे अंडर ग्राउंड रहना पड़ा!.

इस दौरान मुख़्तार पूर्वांचल पर एक छत्र राज चलाने लगा था! लेकिन इसी दौरान मुख़्तार के भाई अफजाल को बीजेपी की तरफ से कृष्णा नन्द राय ने हराया! गाजीपुर की मोहम्मदाबाद सीट जो 17वर्षो से अंसारी परिवार के कब्जे में थी वह 2002 में उनसे छिन गयी थीl

यह हार शायद मुख़्तार को पसंद नहीं थी इसलिए तीन वर्ष बाद ही कृष्णा नन्द राय की हत्या कर दी गयी थी! जब एक कार्यक्रम का उद्घाटन करके लौट रहे विधयक की बुलेट प्रूफ टाटा सूमों गाड़ी को चारो तरफ से घेरकर 500 राउंड फायरिंग की गयी!

इस हमले में एके 47के द्वारा लगभग पांच सौ गोलिया दागी गयी जिसके परिणाम स्वरूप कृष्ण नन्द राय उनके ड्राईवर समेत 6 अन्य लोग भी मरे गए थे!

कहा जाता है इस हत्या कांड में मुन्ना बजरंगी, अतीक उर रहमान शामिल थे, एमएलए कृष्णा नन्द राय के शरीर से 67से ज्यादा गोलियों को बरामद किया गया था!

साम्प्रदायिक दंगे भड़काने के आरोप में 2005 में मुख़्तार अंसारी को जेल हो गयी थी और उसने कृष्णा नन्द की हत्या भी जेल में रहते हुए करायी थी!

लेकिन इन कृत्यों को अंजाम देने के पीछे वजह यह थी कोई भी मुख़्तार के खिलाफ गवाही देने को तैयार नहीं होता था इसलिए वह छूट जाता था!

लेकिन कृष्णा नन्द राय केस में एकमात्र गवाह शशिकांत राय की रहश्यमयी मौत ने एक बार फिर मुख़्तार के खिलाफ केस को कमजोर कर दिया था!

बीजेपी एमएलए कृष्णानंद राय की पत्नी ने 2006 में दुबारा FIR दर्ज करायी और इधर 2008 में ब्रजेश सिंह को ओड़िसा से गिरफ्तार कर लिया गया जो अभी तक जेल के अन्दर है!

और तबसे लेकर अब तक तीन बार एमएलए का चुनाव वह जेल में रहते हुए जीत चूका है! और हाल ही में उसे पंजाब की जेल से उत्तर प्रदेश की जेल में शिफ्ट किया गया है!

मुख़्तार की संपत्‍ति‍ कितनी है (Mukhtar Ansari Net Worth)

मुख़्तार की पत्नी आफशा के नाम 12 करोड़ 34 लाख 30 हजार 78 रुपए की चल संपत्‍ति‍ है।

जिसमे 50 लाख के जेवर जो सोना, चांदी और हीरे के है, 10 करोड़ 59 लाख के लगभग जमीन और मकान है! और लोन पर ली गयी दो पजेरो, एक मर्सिडीज, एक स्कोडा गाड़ी भी है, एक रिवाल्वर भी है

मुख़्तार पर विभिन्न बैंकों से 8 करोड़ 1 लाख 74 हजार 200 रुपए का कर्ज भी है.

मुख़्तार के बच्चो के नाम  3 करोड़ 69 लाख 29 हजार 298 रुपए की संपत्ति भी है!

मुख़्तार अंसारी की संक्षिप्त जीवनी 

पूरा नाम मुख़्तार अंसारी
जन्म दिन (Date of Birth)30 जून 1963(30 June 1963)
जन्म स्थान यूशुफपुर गाजीपुर
नागरिकता भारतीय
धर्म इस्लाम (सुन्नी)
Collage/ विश्व विद्यालय Post Graduate College Rambadh
शिक्षा बी.ए. (1984)
पता टेलर टोला, क़स्बा- यूसुफ़पुर, पोस्ट- मोहम्मदाबाद, जिला- गाजीपुर 
उम्र 57 साल (2020 तक)
मुख्या विरोधी बृजेश सिंह 
व्यवसाय राजनीती

परिवार  (यह भी पढ़े >>>>[PMJAY] Ayushman Bharat Hospital List 2021)

दादा का नाम मुख़्तार अहमद अंसारी 
पिता का नाम सुभानुल्लाह अंसारी
माता का नाम बेगम राबिया
चाचा का नाम हामिद अंसारी (पूर्व उप राष्ट्रपति) 
भाई 1- सिबाकतुल्लाह अंसारी 
2- अफजाल अंसारी 
पत्नी आफशा
बेटे अब्बास अंसारी
उमर अंसारी 
बेटी नहीं 
कुल संपत्ति 22 करोड़ (2017 के चुनावी हलफ नामे के अनुसार)

इसे भी जाने …….सरोगेसी क्या है और कितनी सफल है | Surrogacy Meaning in Hindi

Karim Lala Biography In Hindi | गंगूबाई कठियावाड़ी का मददगार करीम लाला का जीवन परिचय

Thalaivi Movie की मुख्य महानायिका जयललिता जयराम का जीवन संघर्ष | J. Jayalalitha Biography In Hindi

Alexander – The Great : सिकंदर का इतिहास, जीवन परिचय, विश्वविजय अभियान

डिस्क्लेमर:-

मुख़्तार अंसारी का जीवन परिचय (Mukhtar Ansari Biography in Hindi) के माध्यम से कुख्यात डॉन मुख़्तार अंसारी के बारे में हमने यह जानकारी उपलब्ध करायी अगर इससे सम्बंधित आपके पास भी कोई जानकारी है तो उसे कमेन्ट के माध्यम से शेयर कर सकते है!

ऐसे ही महत्वपूर्ण और जानकारी परक पोस्ट को पढने के लिए नियमित रूप से आप हमारी Website catchmoney.in  पर नियमित रूप से आते रहे! धन्यवाद  

Leave a Reply

x
%d bloggers like this: