माघ पूर्णिमा (माघी) 2021 महत्त्व, दिनांक और शुभ मुहूर्त – इस बार क्यों महत्वपूर्ण है

अवश्य पढ़े

हिन्दू मान्यताओ में माघ महीने के अंतिम दिन को जब चंद्रमा अपने पूर्ण स्वरूप में होता है, इस दिन को माघ पूर्णिमा या माघी पूर्णिमा कहा जाता है! माघ पूर्णिमा (माघी) 2021 तिथि जनवरी अथवा फरवरी महीने में पड़ती है! इस पूरे माह स्नान का अपना अलग महत्त्व है! तथा विशेषकर माघ पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान करना बहुत फलदायी होता है!

माघ पूर्णिमा 2021 की तिथि और शुभ मुहूर्त

सन 2021 में माघ पूर्णिमा(माघी) किस तारीख और दिन को है? तथा स्नान,दान का शुभ मुहूर्त क्या है? आइये यह जानते है-

शुभ मुहूर्त का समय तिथि अथवा दिनांक दिन
दोपहर 2 बजकर 50 मिनट से शुरू 26 फरवरी 2021शुक्रवार
दोपहर 1 बजकर 45 मिनट से ख़त्म27 फरवरी 2021शनिवार

माघ पूर्णिमा क्यों मनाई जाती है

माघ पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णू और महाबली हनुमान की पूजा करना श्रेष्ठतम रहता है! इस दिन इन दोनों देवताओ की पूजा अर्चना की जाती है! माघी के दिन पवित्र नदियों, संगम, आदि में स्नान करना शुभ होता है, तथा स्नान घाट पर दान ओर पून्य करने से व्यक्ति द्वारा किये जाने वाले पापो से छुटकारा मिल जाता है, चाहे वह पाप इस जन्म के हो या पिछले जन्म के! ऐसी मान्यता है,इस दिन मंदिर जाकर देवी देवताओ की पूजा अर्चना करने से आपके भक्तो की सारी मनोकामनाये पूरी हो जाती है!

यह भी पढ़े >>>कैकेयी का चरित्र चित्रण – लड़की का नाम कैकेयी क्यों नहीं रखते

राम और रामायण की कहानी – जो आपको सोचने पर मजबूर कर दे!

माघ पूर्णिमा का पौराणिक महत्त्व

हिन्दू धर्म और शास्त्रों के अनुसार माघ महीने में एक महीने का कल्पवास करने के लिए लोग प्रयाग जाते जाते है! और वही पर पूरा महीना माघ पूर्णिमा तक बहुत नियम और संयम से सुबह उठकर गंगा में स्नान करना मंत्रो का जप करना तथा भगवान की पूजा करना यह कल्पवास करने वालो का दैनिक क्रिया कलाप होता है!

कहा जाता है कि ऐसा करने से लोगो का मन भगवान के चरणों में लगता है, भगवान की भक्ति की प्राप्ति होती है! तथा म्रत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है!

ऐसा भी मानना है कि इस पावन महीने में देवता मनुष्य का रूप लेकर धरती पर कल्पवास करने आते है! और माघी के दिन स्नान और दान करने के बाद वापस जाते है

व्रत और पूजा की विधि

माघी के दिन व्रत रहना और पूजा करना अपना अलग महत्त्व रखता है! इस दिन सुबह जल्दी उठकर पवित्र नदी या सरोवर में स्नान करना चाहिए! अगर आप नदी या सरोवर में नहीं जा सकते है तो घर पर ही नहाने के ताजे पानी में गंगा जल अगर उपलब्ध है तो डालकर स्नान करना चाहिए!

स्नान करने के उपरांत सूर्य मन्त्र और गायत्री मन्त्र का जाप करना चाहिए! फिर भगवान विष्णू की पूजा करनी चाहिए और पूरा दिन व्रत करे दान करे!

माघ पूर्णिमा के व्रत और नियम

  • इसदिन लोगो को सुबह वृम्हमहूर्त में उठाना चाहिए
  • पवित्र नदी, संगम, सरोवर अथवा पवित्र जल से स्नान करना
  • भगवान विष्णू और हनुमान की पूजा करना
  • पूरा दिन व्रत का संकल्प लेना
  • स्नान के बाद यथा स्थिति दान करना
  • सूर्य मंत्र, गायत्री मंत्र ‘ॐ नमो नारायण’ मंत्र का जाप करना
  • सत्यनारायण की कथा सुनना
  • भगवान सत्यनारायण के पसंदीदा फल, सुपारी, केले के पत्ते, मोली, तिल, अगरबत्ती और चंदन का लेप भगवान विष्णु को चढ़ाना
  • चंद्रमा को अर्घ्य देना
  • तिल का दान देना सबसे उत्तम है

यह भी देंखे ……..रहिमन धागा प्रेम का, मत तोड़ो चटकाय! दोहे का वास्तविक जीवन से सम्बन्ध

सपनो का अर्थ – Sapno ka Matlab aur Swapn Phal Hindi me

तांडव वेब सिरीज में क्या है – हिन्दू भावनाये आहत करना साजिश या भूल

Magh poornima Date

2021 में दिनांक 27 फरवरी दिन शनिवार(27th February Saturday 2021) को माघ पूर्णिमा मनाई जाएगी, और इसी डेट को दान पुन्य करना श्रेष्ठ रहेगा!

तो दोस्तों माघ पूर्णिमा (माघी) 2021 के बारे में हमारे द्वारा प्रदान की गयी जानकारी आपको कैसी लगी कमेन्ट करके जरूर बताये! और इसके आलावा किसी और व्रत अथवा त्यौहार पर विस्तृत जानकारी चाहते है तो जरूर लिखे!

- Advertisement -

More articles

Leave a Reply

- Advertisement -spot_img

हमारे टॉप आर्टिकल

x
%d bloggers like this: